Breaking News उत्तर प्रदेश राज्य

India aajtak TV Live ननीय राज्यपाल ने हरिशंकरी का पौधारोपण कर किया वन महोत्सव-2021 का शुभारंभ

ad-1
ad-1

ननीय राज्यपाल ने हरिशंकरी का पौधारोपण कर किया वन महोत्सव-2021 का शुभारंभ

** अपने जन्म दिवस पर एक पेड़ अवश्य लगाएं बच्चों को भी प्रेरित करें

** कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए मास्क अवश्य पहने, बार-बार लोगों को भी कहे मास्क पहने

** कोरोना संक्रमण की थर्डवेब ज्यादा खतरनाक, अपना व परिवार का ध्यान रखें

** महामहिम राज्यपाल श्रीमती आनंदीबेन पटेल ने जिला कारागार में महिला कैदियों के साथ वार्ता की

उत्तर प्रदेश की माननीय राज्यपाल श्रीमती आनंदीबेन पटेल द्वारा वन महोत्सव के अवसर पर प्रसन्नता व्यक्त करते हुए कहा कि आज मुझे वन महोत्सव सप्ताह के अवसर पर ऐतिहासिक नगरी झांसी की पहुंज नदी पर स्थित सिमरधा डैम के पास वृक्षारोपण करने का सौभाग्य प्राप्त हुआ।
झांसी के लिए पहुंज नदी एवं सिमरधा डैम सांस्कृतिक दृष्टिकोण से बहुत महत्वपूर्ण है। नदी पर बना हुआ सिमरधा डैम जलापूर्ति का मुख्य स्रोत है तथा इस डैम से निकली विभिन्न नहरों से लगभग तीस ग्रामों में सिंचाई की जाती है। पर्यटन की दृष्टि से भी यहां का वातावरण बहुत मनोरम है।
माननीय राज्यपाल श्रीमती आनंदीबेन पटेल ने कहा कि वन महोत्सव प्रकृति के उपकारों के प्रति कृतज्ञता व्यक्त करने का अवसर है। हमारी समृद्ध संस्कृति व परम्परा में पेड़-पौधों को विशिष्ट स्थान प्राप्त है। भारतीय संस्कृति में वृक्षों को अत्यन्त पूजनीय माना जाता है। पीपल वनस्पति जगत में सर्वश्रेष्ठ है। नीम, आंवला, बरगद आदि वृक्ष औषधीय गुणों का भण्डार होने के साथ-साथ मानव सेहत को बनाये रखने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। वृक्ष के आसपास रहने से जीवन में मानसिक संतुलन और संतुष्टि मिलती है।
विगत वर्ष उत्तर प्रदेश सरकार ने सघन वृक्षारोपण अभियान चलाकर वन महोत्सव सप्ताह के अवसर पर रिकार्ड पच्चीस करोड़ पौधे रोपित कराया था। इस वर्ष वन महोत्सव के दौरान उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा तीस करोड़ वृक्षारोपण का लक्ष्य निर्धारित है। आज 4 जुलाई को पच्चीस करोड़ पौधे एक दिन में ही लगाने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। शेष पांच करोड़ पौधे पूरे जुलाई माह के दौरान लगाये जायेंगे।
उन्होंने कहा कि मेरा मानना है कि प्रदेश सरकार का इतना बड़ा लक्ष्य आप सभी के सहयोग से ही पूर्ण किया जा सकता है। वनावरण व वृक्षावरण विस्तार कर प्रदेश को हरा-भरा बनाने एवं विकास पथ पर अग्रसर रखने की दिशा में राज्य सरकार द्वारा किये जा रहे प्रयासों की श्रृंखला में यह उपलब्धि स्वर्णिम अध्याय साबित होगी। इसके लिये मैं प्रदेश के माननीय मुख्यमंत्री श्री योगी आदित्यनाथ जी का अभिनन्दन करती हूँ।
वृक्ष पृथ्वी के आभूषण हैं। इनका अधिक से अधिक रोपण मानव स्वास्थ्य के लिये भविष्य में बहुत प्रभावी साबित होगा। वृक्ष द्वारा उत्सर्जित प्राणवायु ऑक्सीजन के अलावा उनकी जड़ें, तने, फल-फूल, पत्तियां और लकड़ी मानव जीवन में काफी उपयोग में आती हैं। इन सभी गुणों को ध्यान में रखते हुए पौधारोपण में ऐसी वृक्ष प्रजातियों का चयन किया जाना चाहिए जो विकसित होने पर अपनी सघन छाया, औषधीय गुणों और फल-फूलों से मानवता की सहायक साबित हों।
अच्छी और देसी प्रजातियों के पौधों के रोपण के साथ तेजी से बढ़ने वाली प्रजातियों का रोपण किया जाना चाहिए। इससे जल और भूमि के संरक्षण सहित पशु-पक्षियों, वन्यजीवों और यहां तक की मानव जीवन को भी सुरक्षा मिलेगी।
आज के विकसित व आधुनिक युग में हमें स्वीकार करना चाहिये कि इस धरती पर सिर्फ हमारा ही अधिकार नहीं है अपितु इसके विभिन्न भागों में विद्यमान करोड़ों प्रजातियों का भी इस पर उतना ही अधिकार है, जितना हमारा। धरती पर मानव जीवन के स्वास्थ्य, प्रतिरोधक क्षमता एवं जीवन बनाये व बचाये रखने में जैव विविधता की महत्वपूर्ण भूमिका है। नदियों सहित समस्त वेटलैंड्स भू व जल का मिलन स्थल होने के कारण जैव विविधता की दृष्टि से अत्यन्त महत्वपूर्ण है।
इसी को दृष्टिगत रखते हुए मैं उत्तर प्रदेश की राज्यपाल बनने के बाद आज झांसी की पहुंज नदी पर स्थित सिमरधा डैम के पास वृक्षारोपण करने का अवसर प्राप्त हुआ।
हमारे पर्यावरणविदों का मानना है कि महामारी कोरोना (कोविड-19) का संक्रमण इंसान द्वारा प्रकृति से की गई छेड़छाड़ का ही नतीजा है। पूरे विश्व में कोरोना संक्रमण से मानव जीवन पूरी तरह प्रभावित रहा है, ऑक्सीजन की कमी के लिए हमने वृक्ष के महत्व को जाना। हॉस्पिटल में ऑक्सीजन के लिए जाते थे तभी सभी को पता चला कि ऑक्सीजन कहां से आता है। इसलिये प्राकृतिक संसाधनों का हमें उतना ही उपयोग करना चाहिए जितना आवश्यक हो, ज्यादा दोहन या प्रकृति के साथ ज्यादा छेड़छाड़ विनाश का कारण बनती है। हमारी मौजूदा पीढ़ी का यह दायित्व है कि वह भावी पीढ़ी के लिए एक समृद्ध एवं सुदृढ़ प्राकृतिक संपदा को सुरक्षित रखने का प्रयास करे। हम अपने पूर्वजों द्वारा लगाए पेड़ों का लाभ ले रहे हैं और यदि आज की पीढ़ी ने पौधे नहीं रोपे तो हमारी आने वाली पीढ़ी हमें माफ नहीं करेगी। उन्होंने बताया कि पीपल का वृक्ष 24 घंटे ऑक्सीजन देता है उन्होंने कहा कि गांव में संक्रमित लोग पीपल के नीचे लेटने से उनको ऑक्सीजन भरपूर मिली और वह कोरोना संक्रमण से मुक्त हो गए।
महामहिम राज्यपाल ने कहा कि वन महोत्सव के अवसर पर मैं समस्त प्रदेशवासियों से अनुरोध करती हूँ कि प्राकृतिक संसाधनों का समुचित उपयोग, प्रकृति प्रेमी जीवन शैली, नदियों को प्रदूषण मुक्त करने में योगदान एवं अधिक से अधिक वृक्षारोपण कर पर्यावरण संतुलन स्थापित करने में अपना अमूल्य योगदान दें। अगर सांस लेने के लिए शुद्ध ऑक्सीजन चाहिए तो इतना तो करना ही होगा। याद रहे यही पौधे आज हर मर्ज के रामबाण हैं।
महामहिम राज्यपाल श्रीमती आनंदीबेन पटेल ने वन महोत्सव का शुभारंभ करते हुए कहा कि कोरोना से बचाव के लिए मास्क अवश्य पहने, मास्क व सोशल डिस्टेंसिंग जरूरी है। उन्होंने कहा कि कोरोना में मरने वालों पर रिसर्च से पता चला कि वह मास्क नहीं लगाए थे और समय से अस्पताल नहीं पहुंचे। उन्होंने कहा कि मास्क जेब में ना रखें, उसको लगाएं और लोगों को भी प्रेरित करें।
वन महोत्सव के शुभारंभ पर महामहिम राज्यपाल ने कहा कि हमको अग्नि दान देने के लिए लकड़ी की आवश्यकता पड़ती है, यदि हम संकल्प करें कि जब हम मृत्यु को प्राप्त हों उसके लिए लकड़ी की आवश्यकता पड़ेगी। इसी सोच के साथ पांच पेड़ अवश्य लगाएं और उन्हें अपने बच्चों की तरह पालते हुए उनका ध्यान रखें और बड़ा करें।
वृक्षारोपण जन आंदोलन 2021 के अंतर्गत वन महोत्सव के कार्यक्रम में माननीय राज्यपाल महोदय उत्तर प्रदेश द्वारा मंच पर विभिन्न योजनाओं के लाभार्थियों को लाभान्वित किया। श्रीमती विमला पत्नी हरवान ग्राम पलींदा को मुख्यमंत्री आवास योजना, श्री अमित पांडे पुत्र श्री अनिरुद्ध पांडे ग्राम हाटी पीएम कुसुम योजना, श्रीमती शीला पत्नी श्री संजीव लक्ष्मी गेट बहार झांसी एक जनपद एक उत्पाद योजना, श्री अंकुर पुत्र श्री विनोद ग्राम चिपलोटा स्वामित्व योजना, श्री जीतेंद्र पुत्र श्री शंकर ग्राम सफा स्वामित्व योजना, श्रीमती सीमा यादव पत्नी श्री अजीत यादव ग्राम सिमरावारी वनजी0पी0- वन बी0सी0 योजना, श्री रामप्रकाश सेन पुत्र श्री मुन्नालाल चावला कॉलोनी डडियापुर कन्या विवाह सहायता योजना, श्री गोविंद नारायण सिंह पुत्र श्री नारायण सिंह ग्राम हंसारी प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना से लाभान्वित किया इसके साथ ही साथ माननीय राज्यपाल द्वारा श्रीमती आकांक्षा ताम्रकार पत्नी श्री अभिषेक नवसृजन महिला स्वयं सहायता समूह तथा कुमारी नेहा प्रजापति पुत्री श्री महेश प्रजापति अमृत माटी महिला स्वयं सहायता समूह को पौधारोपण हेतु पौधे वितरित किए। उन्होंने सभी को शुभकामनाएं देते हुए उनके उज्जवल भविष्य की कामना की।
महामहिम राज्यपाल श्रीमती आनंदीबेन पटेल ने कार्यक्रम स्थल पर विभिन्न विभागों द्वारा योजनाओं को प्रदर्शित करती हुई स्टालों का निरीक्षण किया। वन विभाग, कृषक उत्पादक संगठन, ओडीओपी, उद्यान एवं खाद्य प्रसंस्करण, बलिनी मिल्क प्रोड्यूसर, श्रम विभाग, एनआरएलएम पारा लगाई गई स्थलों का उन्होंने निरीक्षण किया और उत्पादों को देखते हुए उन्होंने प्रसन्नता व्यक्त की।
महामहिम राज्यपाल श्रीमती आनंदीबेन पटेल ने वन महोत्सव कार्यक्रम के उपरांत जिला कारागार पहुंचकर महिला कैदियों से वार्ता की, उन्होंने जेल में मिल रही सुविधाओं की जानकारी ली साथ ही साथ उन्होंने उनके स्वास्थ्य संबंधी भी जानकारी प्राप्त की उन्होंने निर्देश दिए कि महिला कैदियों के चिकित्सकीय परीक्षण लगातार कराया जाए उपरांत महामहिम राज्यपाल श्रीमती आनंदीबेन पटेल सार्वजनिक शिक्षा उन्नयन संस्थान, वृद्धा आश्रम सिद्धेश्वर नगर का निरीक्षण किया। उन्होंने कहा कि मैं आपकी बेटी के रूप में आई हूं, आप माता-पिता के समान है। जब भी कोई आवश्यकता हो तत्काल मुझे सूचित करें मैं व्यवस्था करूंगी। उन्होंने वहां रहने वाली वृद्धजनों से बातचीत की और उनकी कुशलक्षेम को जाना। उन्होंने राजभवन की ओर से वृद्धाआश्रम में उपहार दिए, जिसमें 02वाशिंग मशीन,08 कूलर, 01डीप फ्रीजर, 02फ्रिज, 01गैस चुल्हा बड़ा, 40 गद्दे, 80 बेडशीट व 40 तकिए सहित अन्य सामग्री शामिल है भेंट की।
वृक्षारोपण जन-आंदोलन-2021 अंतर्गत वन महोत्सव के शुभारंभ के अवसर पर श्री मनोज सिंह अपर मुख्य सचिव वन पर्यावरण एवं जलवायु परिवर्तन विभाग उत्तर प्रदेश शासन ने महामहिम राज्यपाल का स्वागत करते हुए कहा कि आज केविन प्रदेश में 25 करोड़ पौधों का रोपण शाम तक पूर्ण कर लिया जाएगा उन्होंने कहा कि जब से सरकार का गठन हुआ है सौ करोड़ वृक्ष लगाए जा चुके हैं, उन्होंने बताया कि आज झांसी में पहुंच नदी के सिमरधा बांध पर 5 हेक्टेयर में 5000 पौधों का रोपण किया जा रहा है।
कार्यक्रम के उपरांत महामहिम राज्यपाल श्रीमती आनंदीबेन पटेल को जिला प्रशासन की ओर से जिलाधिकारी श्री आंद्रा वामसी ने स्मृति चिन्ह भेंट किया।
वृक्षारोपण वन महोत्सव कार्यक्रम में श्री मनोहर लाल पंथ “मन्नू कोरी” माननीय राज्य मंत्री श्रम एवं सेवायोजन उत्तर प्रदेश शासन, श्री पवन गौतम मा. जिला पंचायत अध्यक्ष, श्री राम तीर्थ सिंघल महापौर नगर निगम, श्री रवि शर्मा विधायक सदर, श्री राजीव सिंह पारीछा विधायक बबीना, श्री जवाहर सिंह राजपूत विधायक गरौठा, श्री बिहारी लाल आर्य विधायक मऊरानीपुर, श्रीमती रमा निरंजन मा. सदस्य विधान परिषद, श्री जमुना प्रसाद कुशवाहा मा. जिला अध्यक्ष भाजपा ग्रामीण क्षेत्र, श्री मुकेश मिश्रा मा. जिला अध्यक्ष शहरी क्षेत्र, सांसद झांसी-ललितपुर प्रतिनिधि सहित अन्य गणमान्य उपस्थित रहे।
कार्यक्रम में लखनऊ मुख्यालय से आए श्री पी के शर्मा प्रमुख वन संरक्षक वन्यजीव उत्तर प्रदेश, श्री संजय सिंह प्रबंध निदेशक उत्तर प्रदेश वन विभाग, श्री योगेंद्र कुमार पुलिस उपमहानिरीक्षक,,मुख्य वनसंरक्षक श्री पीपी अधिकारी, जिलाअधिकारी श्री आंद्रा वामसी, एसएसपी श्री शिवहरी मीणा, मुख्य विकास अधिकारी श्री शैलेष कुमार, नगर आयुक्त श्री अवनीश कुमार राय, डीएफओ श्री वीके मिश्र, एडीएम श्री संजय कुमार पांडेय, एडीएम श्री राम अक्षयवर चौहान सहित उप जिलाधिकारी एसीएम व अन्य विभागों के अधिकारी उपस्थित रहे।