Breaking News हरियाणा

India Aajtak tv live फरीदाबाद दिनाँक 20 अक्टूबर 2021:- जिला प्रशासन फरीदाबाद के द्वारा महर्षि वाल्मीकि जी का प्रकाश दिवस

ad-1
ad-1

फरीदाबाद दिनाँक 20 अक्टूबर 2021:- जिला प्रशासन फरीदाबाद के द्वारा महर्षि वाल्मीकि जी का प्रकाश दिवस खंड स्तर पर बड़खल खंड में एस .जी.एम. नगर स्थित बौद्ध बिहार समुदायिक भवन मैं डॉक्टर बी.. आर. अंबेडकर एजुकेशन सोसायटी फरीदाबाद के साथ मिलकर मनाया गया। इस कार्यक्रम के मुख्य अतिथि बडकल उपमंडल के तहसीलदार जसवंत सिंह थे और अध्यक्षता भारतीय जनता पार्टी के जिला अध्यक्ष श्री गोपाल शर्मा के द्वारा की गई। नगर निगम के पार्षद और भारतीय जनता पार्टी के अनुसूचित जाति मोर्चा के जिलाध्यक्ष नरेश नंबरदार विशेष अतिथि के रुप से और श्री संदीप कुमार जिला कल्याण अधिकारी के विशेष प्रतिनिधि के रूप में उपस्थित थे। डॉ भीमराव आंबेडकर एजुकेशन सोसाइटी के चेयरमैन ओ.पी. धामा ने उपायुक्त जितेंद्र यादव ओर जिला समाज कल्याण अधिकारी का इसके लिए बहुत आभार प्रकट किया।

गोपाल शर्मा ने सभा को संबोधित करते हुए कहा कि महर्षि बाल्मीकि जी महाकाव्य रामायण ग्रंथ के रचयिता थे और इसलिए उन्हें महा कवि का दर्जा दिया गया । उन्होंने कहा कि संस्कृत भाषा का पहला श्लोक महर्षि बाल्मीकि जी के मुख से निकला था। हमें महर्षि वाल्मीकि जी के जीवन से शिक्षा लेनी चाहिए और अधिक से अधिक साधन विहीन और गरीब लोगों की भलाई के काम करने चाहिए,। चाहे वह शिक्षा का काम हो और चाहे पर्यावरण का काम हो। चाहे गरीबों को भोजन देने का काम हो। उन्होंने डॉक्टर भीमराव अंबेडकर एजुकेशन सोसायटी फरीदाबाद के सेवा कार्यों की सराहना करते हुए कहा के संस्था के चेयरमैन श्री ओ .पी. धामा और उनकी धर्मपत्नी श्रीमती निर्मल धामा बधाई के पात्र हैं जो अपनी सेवानिवृत्ति के बाद महर्षि वाल्मीकि की शिक्षा पर चलते हुए गरीब लड़कियों और महिलाओं को रोजगार परक शिक्षा देकर उनको आत्मनिर्भर बना रहे हैं।

डॉक्टर अंबेडकर एजुकेशन सोसायटी फरीदाबाद के चेयरमैन श्री ओ.पी. थामा ने संस्था की गतिविधियों पर प्रकाश डालते हुए बताया क्या अभी तक इस संस्था के द्वारा 1200 से ज्यादा लड़कियों और महिलाओं को सिलाई , ब्यूटी पार्लर, कंप्यूटर और कौशल विकास मैं प्रशिक्षण दिया गया है। उन्होंने कहा कि इस समय सबसे ज्यादा जरूरत इस बात की है कि हमें अपने बच्चों को ज्यादा से ज्यादा पढ़ाना चाहिए और समाज में प्रचलित कुरीतियों के खिलाफ एक जन आंदोलन चलाना चाहिए।

वाल्मीकि समाज के वरिष्ठ नेता और समाजसेवी सुनील कंडेरा ने कहा कि हमें महर्षि वाल्मीकि के पद चिन्हों पर चलना चाहिए। नगर निगम के पार्षद नरेश नंबरदार है कहा कि हमें महर्षि वाल्मीकि के जीवन से शिक्षा लेनी चाहिए

संस्था की डायरेक्टर कोआर्डिनेशन निर्मल धामा ने आए हुए सभी अतिथियों ,महानुभावों , गणमान्य व्यक्तियों और प्रेस प्रतिनिधियों का धन्यवाद करते हुए कहा कि उसने अपना बाकी का जीवन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर के बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ आंदोलन और कौशल विकास अभियान के अंतर्गत महिला सशक्तिकरण और उनके उत्थान के लिए समर्पित है और यही महर्षि बाल्मीकि जी के प्रति सच्ची श्रद्धा है।

संस्था की छात्राओं रिया, शमा ओर रुखसार के द्वारा सुंदर स्वागत गीत प्रस्तुत किया गया। मीनाक्षी और नीलम ने देश भक्ति के गाने पर नृत्य प्रस्तुत किया। आरती ने महर्षि वाल्मीकि के रूप में एक कविता के माध्यम से महर्षि वाल्मीकि के जीवन पर प्रकाश डाला तथा शिवानी ने महर्षि वाल्मीकि के बारे में अपने विचार रखे।

वरिष्ठ समाजसेवी, दार्शनिक और शिक्षाविद प्रोफेसर डॉक्टर एम .पी .सिंह ने मंच का संचालन किया ओर महर्षि बाल्मीकि जी के जीवन दर्शन पर अपने विचार रखे। इस कार्यक्रम में दयानंद महिला कॉलेज की असिस्टेंट प्रोफेसर मधु सिंह भी विशेष योगदान रहा।